Ram Charita Manas

Ayodhya-Kanda

Conversation betwwen Shri Sita and Rama

ॐ श्री परमात्मने नमः


This overlay will guide you through the buttons:

संस्कृत्म
A English

ॐ श्री गणेशाय नमः

Chaupai / चोपाई

मातु समीप कहत सकुचाहीं। बोले समउ समुझि मन माहीं ॥ राजकुमारि सिखावन सुनहू। आन भाँति जियँ जनि कछु गुनहू ॥

Chapter : 9 Number : 64

आपन मोर नीक जौं चहहू। बचनु हमार मानि गृह रहहू ॥ आयसु मोर सासु सेवकाई। सब बिधि भामिनि भवन भलाई ॥

Chapter : 9 Number : 64

एहि ते अधिक धरमु नहिं दूजा। सादर सासु ससुर पद पूजा ॥ जब जब मातु करिहि सुधि मोरी। होइहि प्रेम बिकल मति भोरी ॥

Chapter : 9 Number : 64

तब तब तुम्ह कहि कथा पुरानी। सुंदरि समुझाएहु मृदु बानी ॥ कहउँ सुभायँ सपथ सत मोही। सुमुखि मातु हित राखउँ तोही ॥

Chapter : 9 Number : 64

Doha / दोहा

दो. गुर श्रुति संमत धरम फलु पाइअ बिनहिं कलेस। हठ बस सब संकट सहे गालव नहुष नरेस ॥ ६१ ॥

Chapter : 9 Number : 65

Chaupai / चोपाई

मैं पुनि करि प्रवान पितु बानी। बेगि फिरब सुनु सुमुखि सयानी ॥ दिवस जात नहिं लागिहि बारा। सुंदरि सिखवनु सुनहु हमारा ॥

Chapter : 9 Number : 65

जौ हठ करहु प्रेम बस बामा। तौ तुम्ह दुखु पाउब परिनामा ॥ काननु कठिन भयंकरु भारी। घोर घामु हिम बारि बयारी ॥

Chapter : 9 Number : 65

कुस कंटक मग काँकर नाना। चलब पयादेहिं बिनु पदत्राना ॥ चरन कमल मुदु मंजु तुम्हारे। मारग अगम भूमिधर भारे ॥

Chapter : 9 Number : 65

कंदर खोह नदीं नद नारे। अगम अगाध न जाहिं निहारे ॥ भालु बाघ बृक केहरि नागा। करहिं नाद सुनि धीरजु भागा ॥

Chapter : 9 Number : 65

Doha / दोहा

दो. भूमि सयन बलकल बसन असनु कंद फल मूल। ते कि सदा सब दिन मिलिहिं सबुइ समय अनुकूल ॥ ६२ ॥

Chapter : 9 Number : 66

Chaupai / चोपाई

नर अहार रजनीचर चरहीं। कपट बेष बिधि कोटिक करहीं ॥ लागइ अति पहार कर पानी। बिपिन बिपति नहिं जाइ बखानी ॥

Chapter : 9 Number : 66

ब्याल कराल बिहग बन घोरा। निसिचर निकर नारि नर चोरा ॥ डरपहिं धीर गहन सुधि आएँ। मृगलोचनि तुम्ह भीरु सुभाएँ ॥

Chapter : 9 Number : 66

हंसगवनि तुम्ह नहिं बन जोगू। सुनि अपजसु मोहि देइहि लोगू ॥ मानस सलिल सुधाँ प्रतिपाली। जिअइ कि लवन पयोधि मराली ॥

Chapter : 9 Number : 66

नव रसाल बन बिहरनसीला। सोह कि कोकिल बिपिन करीला ॥ रहहु भवन अस हृदयँ बिचारी। चंदबदनि दुखु कानन भारी ॥

Chapter : 9 Number : 66

Doha / दोहा

दो. सहज सुह्द गुर स्वामि सिख जो न करइ सिर मानि ॥ सो पछिताइ अघाइ उर अवसि होइ हित हानि ॥ ६३ ॥

Chapter : 9 Number : 67

Chaupai / चोपाई

सुनि मृदु बचन मनोहर पिय के। लोचन ललित भरे जल सिय के ॥ सीतल सिख दाहक भइ कैंसें। चकइहि सरद चंद निसि जैंसें ॥

Chapter : 9 Number : 67

उतरु न आव बिकल बैदेही। तजन चहत सुचि स्वामि सनेही ॥ बरबस रोकि बिलोचन बारी। धरि धीरजु उर अवनिकुमारी ॥

Chapter : 9 Number : 67

लागि सासु पग कह कर जोरी। छमबि देबि बड़ि अबिनय मोरी ॥ दीन्हि प्रानपति मोहि सिख सोई। जेहि बिधि मोर परम हित होई ॥

Chapter : 9 Number : 67

मैं पुनि समुझि दीखि मन माहीं। पिय बियोग सम दुखु जग नाहीं ॥

Chapter : 9 Number : 67

Doha / दोहा

दो. प्राननाथ करुनायतन सुंदर सुखद सुजान। तुम्ह बिनु रघुकुल कुमुद बिधु सुरपुर नरक समान ॥ ६४ ॥

Chapter : 9 Number : 68

Chaupai / चोपाई

मातु पिता भगिनी प्रिय भाई। प्रिय परिवारु सुह्रद समुदाई ॥ सासु ससुर गुर सजन सहाई। सुत सुंदर सुसील सुखदाई ॥

Chapter : 9 Number : 68

जहँ लगि नाथ नेह अरु नाते। पिय बिनु तियहि तरनिहु ते ताते ॥ तनु धनु धामु धरनि पुर राजू। पति बिहीन सबु सोक समाजू ॥

Chapter : 9 Number : 68

भोग रोगसम भूषन भारू। जम जातना सरिस संसारू ॥ प्राननाथ तुम्ह बिनु जग माहीं। मो कहुँ सुखद कतहुँ कछु नाहीं ॥

Chapter : 9 Number : 68

जिय बिनु देह नदी बिनु बारी। तैसिअ नाथ पुरुष बिनु नारी ॥ नाथ सकल सुख साथ तुम्हारें। सरद बिमल बिधु बदनु निहारें ॥

Chapter : 9 Number : 68

Doha / दोहा

दो. खग मृग परिजन नगरु बनु बलकल बिमल दुकूल। नाथ साथ सुरसदन सम परनसाल सुख मूल ॥ ६५ ॥

Chapter : 9 Number : 69

Chaupai / चोपाई

बनदेवीं बनदेव उदारा। करिहहिं सासु ससुर सम सारा ॥ कुस किसलय साथरी सुहाई। प्रभु सँग मंजु मनोज तुराई ॥

Chapter : 9 Number : 69

कंद मूल फल अमिअ अहारू। अवध सौध सत सरिस पहारू ॥ छिनु छिनु प्रभु पद कमल बिलोकि। रहिहउँ मुदित दिवस जिमि कोकी ॥

Chapter : 9 Number : 69

बन दुख नाथ कहे बहुतेरे। भय बिषाद परिताप घनेरे ॥ प्रभु बियोग लवलेस समाना। सब मिलि होहिं न कृपानिधाना ॥

Chapter : 9 Number : 69

अस जियँ जानि सुजान सिरोमनि। लेइअ संग मोहि छाड़िअ जनि ॥ बिनती बहुत करौं का स्वामी। करुनामय उर अंतरजामी ॥

Chapter : 9 Number : 69

Doha / दोहा

दो. राखिअ अवध जो अवधि लगि रहत न जनिअहिं प्रान। दीनबंधु संदर सुखद सील सनेह निधान ॥ ६६ ॥

Chapter : 9 Number : 70

Chaupai / चोपाई

मोहि मग चलत न होइहि हारी। छिनु छिनु चरन सरोज निहारी ॥ सबहि भाँति पिय सेवा करिहौं। मारग जनित सकल श्रम हरिहौं ॥

Chapter : 9 Number : 70

पाय पखारी बैठि तरु छाहीं। करिहउँ बाउ मुदित मन माहीं ॥ श्रम कन सहित स्याम तनु देखें। कहँ दुख समउ प्रानपति पेखें ॥

Chapter : 9 Number : 70

सम महि तृन तरुपल्लव डासी। पाग पलोटिहि सब निसि दासी ॥ बारबार मृदु मूरति जोही। लागहि तात बयारि न मोही।

Chapter : 9 Number : 70

को प्रभु सँग मोहि चितवनिहारा। सिंघबधुहि जिमि ससक सिआरा ॥ मैं सुकुमारि नाथ बन जोगू। तुम्हहि उचित तप मो कहुँ भोगू ॥

Chapter : 9 Number : 70

Doha / दोहा

दो. ऐसेउ बचन कठोर सुनि जौं न ह्रदउ बिलगान। तौ प्रभु बिषम बियोग दुख सहिहहिं पावँर प्रान ॥ ६७ ॥

Chapter : 9 Number : 71

Chaupai / चोपाई

अस कहि सीय बिकल भइ भारी। बचन बियोगु न सकी सँभारी ॥ देखि दसा रघुपति जियँ जाना। हठि राखें नहिं राखिहि प्राना ॥

Chapter : 9 Number : 71

कहेउ कृपाल भानुकुलनाथा। परिहरि सोचु चलहु बन साथा ॥ नहिं बिषाद कर अवसरु आजू। बेगि करहु बन गवन समाजू ॥

Chapter : 9 Number : 71

Add to Playlist

Read Later

No Playlist Found

Mudra Cost :

Create a Verse Post


namo namaḥ!

भाषा चुने (Choose Language)

Gyaandweep Gyaandweep

namo namaḥ!

Sign Up to explore more than 35 Vedic Scriptures, one verse at a time.

Login to track your learning and teaching progress.


Sign In