Ram Charita Manas

Ayodhya-Kanda

Conversation between Shri Rama and Bharata.

ॐ श्री परमात्मने नमः


This overlay will guide you through the buttons:

संस्कृत्म
A English

ॐ श्री गणेशाय नमः

Doha / दोहा

दो. भरत बिनय सादर सुनिअ करिअ बिचारु बहोरि। करब साधुमत लोकमत नृपनय निगम निचोरि ॥ २५८ ॥

Chapter : 41 Number : 271

Chaupai / चोपाई

गुरु अनुराग भरत पर देखी। राम ह्दयँ आनंदु बिसेषी ॥ भरतहि धरम धुरंधर जानी। निज सेवक तन मानस बानी ॥

Chapter : 41 Number : 271

बोले गुर आयस अनुकूला। बचन मंजु मृदु मंगलमूला ॥ नाथ सपथ पितु चरन दोहाई। भयउ न भुअन भरत सम भाई ॥

Chapter : 41 Number : 271

जे गुर पद अंबुज अनुरागी। ते लोकहुँ बेदहुँ बड़भागी ॥ राउर जा पर अस अनुरागू। को कहि सकइ भरत कर भागू ॥

Chapter : 41 Number : 271

लखि लघु बंधु बुद्धि सकुचाई। करत बदन पर भरत बड़ाई ॥ भरतु कहहीं सोइ किएँ भलाई। अस कहि राम रहे अरगाई ॥

Chapter : 41 Number : 271

Doha / दोहा

दो. तब मुनि बोले भरत सन सब सँकोचु तजि तात। कृपासिंधु प्रिय बंधु सन कहहु हृदय कै बात ॥ २५९ ॥

Chapter : 41 Number : 272

Chaupai / चोपाई

सुनि मुनि बचन राम रुख पाई। गुरु साहिब अनुकूल अघाई ॥ लखि अपने सिर सबु छरु भारू। कहि न सकहिं कछु करहिं बिचारू ॥

Chapter : 41 Number : 272

पुलकि सरीर सभाँ भए ठाढें। नीरज नयन नेह जल बाढ़ें ॥ कहब मोर मुनिनाथ निबाहा। एहि तें अधिक कहौं मैं काहा।

Chapter : 41 Number : 272

मैं जानउँ निज नाथ सुभाऊ। अपराधिहु पर कोह न काऊ ॥ मो पर कृपा सनेह बिसेषी। खेलत खुनिस न कबहूँ देखी ॥

Chapter : 41 Number : 272

सिसुपन तेम परिहरेउँ न संगू। कबहुँ न कीन्ह मोर मन भंगू ॥ मैं प्रभु कृपा रीति जियँ जोही। हारेहुँ खेल जितावहिं मोही ॥

Chapter : 41 Number : 272

Doha / दोहा

दो. महूँ सनेह सकोच बस सनमुख कही न बैन। दरसन तृपित न आजु लगि पेम पिआसे नैन ॥ २६० ॥

Chapter : 41 Number : 273

Chaupai / चोपाई

बिधि न सकेउ सहि मोर दुलारा। नीच बीचु जननी मिस पारा।यहउ कहत मोहि आजु न सोभा। अपनीं समुझि साधु सुचि को भा ॥

Chapter : 41 Number : 273

मातु मंदि मैं साधु सुचाली। उर अस आनत कोटि कुचाली ॥ फरइ कि कोदव बालि सुसाली। मुकुता प्रसव कि संबुक काली ॥

Chapter : 41 Number : 273

सपनेहुँ दोसक लेसु न काहू। मोर अभाग उदधि अवगाहू ॥ बिनु समुझें निज अघ परिपाकू। जारिउँ जायँ जननि कहि काकू ॥

Chapter : 41 Number : 273

हृदयँ हेरि हारेउँ सब ओरा। एकहि भाँति भलेहिं भल मोरा ॥ गुर गोसाइँ साहिब सिय रामू। लागत मोहि नीक परिनामू ॥

Chapter : 41 Number : 273

Doha / दोहा

दो. साधु सभा गुर प्रभु निकट कहउँ सुथल सति भाउ। प्रेम प्रपंचु कि झूठ फुर जानहिं मुनि रघुराउ ॥ २६१ ॥

Chapter : 41 Number : 274

Chaupai / चोपाई

भूपति मरन पेम पनु राखी। जननी कुमति जगतु सबु साखी ॥ देखि न जाहि बिकल महतारी। जरहिं दुसह जर पुर नर नारी ॥

Chapter : 41 Number : 274

महीं सकल अनरथ कर मूला। सो सुनि समुझि सहिउँ सब सूला ॥ सुनि बन गवनु कीन्ह रघुनाथा। करि मुनि बेष लखन सिय साथा ॥

Chapter : 41 Number : 274

बिनु पानहिन्ह पयादेहि पाएँ। संकरु साखि रहेउँ एहि घाएँ ॥ बहुरि निहार निषाद सनेहू। कुलिस कठिन उर भयउ न बेहू ॥

Chapter : 41 Number : 274

अब सबु आँखिन्ह देखेउँ आई। जिअत जीव जड़ सबइ सहाई ॥ जिन्हहि निरखि मग साँपिनि बीछी। तजहिं बिषम बिषु तामस तीछी ॥

Chapter : 41 Number : 274

Doha / दोहा

दो. तेइ रघुनंदनु लखनु सिय अनहित लागे जाहि। तासु तनय तजि दुसह दुख दैउ सहावइ काहि ॥ २६२ ॥

Chapter : 41 Number : 275

Chaupai / चोपाई

सुनि अति बिकल भरत बर बानी। आरति प्रीति बिनय नय सानी ॥ सोक मगन सब सभाँ खभारू। मनहुँ कमल बन परेउ तुसारू ॥

Chapter : 41 Number : 275

कहि अनेक बिधि कथा पुरानी। भरत प्रबोधु कीन्ह मुनि ग्यानी ॥ बोले उचित बचन रघुनंदू। दिनकर कुल कैरव बन चंदू ॥

Chapter : 41 Number : 275

तात जाँय जियँ करहु गलानी। ईस अधीन जीव गति जानी ॥ तीनि काल तिभुअन मत मोरें। पुन्यसिलोक तात तर तोरे ॥

Chapter : 41 Number : 275

उर आनत तुम्ह पर कुटिलाई। जाइ लोकु परलोकु नसाई ॥ दोसु देहिं जननिहि जड़ तेई। जिन्ह गुर साधु सभा नहिं सेई ॥

Chapter : 41 Number : 275

Doha / दोहा

दो. मिटिहहिं पाप प्रपंच सब अखिल अमंगल भार। लोक सुजसु परलोक सुखु सुमिरत नामु तुम्हार ॥ २६३ ॥

Chapter : 41 Number : 276

Chaupai / चोपाई

कहउँ सुभाउ सत्य सिव साखी। भरत भूमि रह राउरि राखी ॥ तात कुतरक करहु जनि जाएँ। बैर पेम नहि दुरइ दुराएँ ॥

Chapter : 41 Number : 276

मुनि गन निकट बिहग मृग जाहीं। बाधक बधिक बिलोकि पराहीं ॥ हित अनहित पसु पच्छिउ जाना। मानुष तनु गुन ग्यान निधाना ॥

Chapter : 41 Number : 276

तात तुम्हहि मैं जानउँ नीकें। करौं काह असमंजस जीकें ॥ राखेउ रायँ सत्य मोहि त्यागी। तनु परिहरेउ पेम पन लागी ॥

Chapter : 41 Number : 276

तासु बचन मेटत मन सोचू। तेहि तें अधिक तुम्हार सँकोचू ॥ ता पर गुर मोहि आयसु दीन्हा। अवसि जो कहहु चहउँ सोइ कीन्हा ॥

Chapter : 41 Number : 276

Doha / दोहा

दो. मनु प्रसन्न करि सकुच तजि कहहु करौं सोइ आजु। सत्यसंध रघुबर बचन सुनि भा सुखी समाजु ॥ २६४ ॥

Chapter : 41 Number : 277

Chaupai / चोपाई

सुर गन सहित सभय सुरराजू। सोचहिं चाहत होन अकाजू ॥ बनत उपाउ करत कछु नाहीं। राम सरन सब गे मन माहीं ॥

Chapter : 41 Number : 277

बहुरि बिचारि परस्पर कहहीं। रघुपति भगत भगति बस अहहीं।सुधि करि अंबरीष दुरबासा। भे सुर सुरपति निपट निरासा ॥

Chapter : 41 Number : 277

सहे सुरन्ह बहु काल बिषादा। नरहरि किए प्रगट प्रहलादा ॥ लगि लगि कान कहहिं धुनि माथा। अब सुर काज भरत के हाथा ॥

Chapter : 41 Number : 277

आन उपाउ न देखिअ देवा। मानत रामु सुसेवक सेवा ॥ हियँ सपेम सुमिरहु सब भरतहि। निज गुन सील राम बस करतहि ॥

Chapter : 41 Number : 277

Doha / दोहा

दो. सुनि सुर मत सुरगुर कहेउ भल तुम्हार बड़ भागु। सकल सुमंगल मूल जग भरत चरन अनुरागु ॥ २६५ ॥

Chapter : 41 Number : 278

Chaupai / चोपाई

सीतापति सेवक सेवकाई। कामधेनु सय सरिस सुहाई ॥ भरत भगति तुम्हरें मन आई। तजहु सोचु बिधि बात बनाई ॥

Chapter : 41 Number : 278

देखु देवपति भरत प्रभाऊ। सहज सुभायँ बिबस रघुराऊ ॥ मन थिर करहु देव डरु नाहीं। भरतहि जानि राम परिछाहीं ॥

Chapter : 41 Number : 278

सुनो सुरगुर सुर संमत सोचू। अंतरजामी प्रभुहि सकोचू ॥ निज सिर भारु भरत जियँ जाना। करत कोटि बिधि उर अनुमाना ॥

Chapter : 41 Number : 278

करि बिचारु मन दीन्ही ठीका। राम रजायस आपन नीका ॥ निज पन तजि राखेउ पनु मोरा। छोहु सनेहु कीन्ह नहिं थोरा ॥

Chapter : 41 Number : 278

Doha / दोहा

दो. कीन्ह अनुग्रह अमित अति सब बिधि सीतानाथ। करि प्रनामु बोले भरतु जोरि जलज जुग हाथ ॥ २६६ ॥

Chapter : 41 Number : 279

Chaupai / चोपाई

कहौं कहावौं का अब स्वामी। कृपा अंबुनिधि अंतरजामी ॥ गुर प्रसन्न साहिब अनुकूला। मिटी मलिन मन कलपित सूला ॥

Chapter : 41 Number : 279

अपडर डरेउँ न सोच समूलें। रबिहि न दोसु देव दिसि भूलें ॥ मोर अभागु मातु कुटिलाई। बिधि गति बिषम काल कठिनाई ॥

Chapter : 41 Number : 279

पाउ रोऽपि सब मिलि मोहि घाला। प्रनतपाल पन आपन पाला ॥ यह नइ रीति न राउरि होई। लोकहुँ बेद बिदित नहिं गोई ॥

Chapter : 41 Number : 279

जगु अनभल भल एकु गोसाईं। कहिअ होइ भल कासु भलाईं ॥ देउ देवतरु सरिस सुभाऊ। सनमुख बिमुख न काहुहि काऊ ॥

Chapter : 41 Number : 279

Doha / दोहा

दो. जाइ निकट पहिचानि तरु छाहँ समनि सब सोच। मागत अभिमत पाव जग राउ रंकु भल पोच ॥ २६७ ॥

Chapter : 41 Number : 280

Chaupai / चोपाई

लखि सब बिधि गुर स्वामि सनेहू। मिटेउ छोभु नहिं मन संदेहू ॥ अब करुनाकर कीजिअ सोई। जन हित प्रभु चित छोभु न होई ॥

Chapter : 41 Number : 280

जो सेवकु साहिबहि सँकोची। निज हित चहइ तासु मति पोची ॥ सेवक हित साहिब सेवकाई। करै सकल सुख लोभ बिहाई ॥

Chapter : 41 Number : 280

स्वारथु नाथ फिरें सबही का। किएँ रजाइ कोटि बिधि नीका ॥ यह स्वारथ परमारथ सारु। सकल सुकृत फल सुगति सिंगारु ॥

Chapter : 41 Number : 280

देव एक बिनती सुनि मोरी। उचित होइ तस करब बहोरी ॥ तिलक समाजु साजि सबु आना। करिअ सुफल प्रभु जौं मनु माना ॥

Chapter : 41 Number : 280

Doha / दोहा

दो. सानुज पठइअ मोहि बन कीजिअ सबहि सनाथ। नतरु फेरिअहिं बंधु दोउ नाथ चलौं मैं साथ ॥ २६८ ॥

Chapter : 41 Number : 281

Chaupai / चोपाई

नतरु जाहिं बन तीनिउ भाई। बहुरिअ सीय सहित रघुराई ॥ जेहि बिधि प्रभु प्रसन्न मन होई। करुना सागर कीजिअ सोई ॥

Chapter : 41 Number : 281

देवँ दीन्ह सबु मोहि अभारु। मोरें नीति न धरम बिचारु ॥ कहउँ बचन सब स्वारथ हेतू। रहत न आरत कें चित चेतू ॥

Chapter : 41 Number : 281

उतरु देइ सुनि स्वामि रजाई। सो सेवकु लखि लाज लजाई ॥ अस मैं अवगुन उदधि अगाधू। स्वामि सनेहँ सराहत साधू ॥

Chapter : 41 Number : 281

अब कृपाल मोहि सो मत भावा। सकुच स्वामि मन जाइँ न पावा ॥ प्रभु पद सपथ कहउँ सति भाऊ। जग मंगल हित एक उपाऊ ॥

Chapter : 41 Number : 281

Doha / दोहा

दो. प्रभु प्रसन्न मन सकुच तजि जो जेहि आयसु देब। सो सिर धरि धरि करिहि सबु मिटिहि अनट अवरेब ॥ २६९ ॥

Chapter : 41 Number : 282

Chaupai / चोपाई

भरत बचन सुचि सुनि सुर हरषे। साधु सराहि सुमन सुर बरषे ॥ असमंजस बस अवध नेवासी। प्रमुदित मन तापस बनबासी ॥

Chapter : 41 Number : 282

चुपहिं रहे रघुनाथ सँकोची। प्रभु गति देखि सभा सब सोची ॥ जनक दूत तेहि अवसर आए। मुनि बसिष्ठँ सुनि बेगि बोलाए ॥

Chapter : 41 Number : 282

करि प्रनाम तिन्ह रामु निहारे। बेषु देखि भए निपट दुखारे ॥ दूतन्ह मुनिबर बूझी बाता। कहहु बिदेह भूप कुसलाता ॥

Chapter : 41 Number : 282

सुनि सकुचाइ नाइ महि माथा। बोले चर बर जोरें हाथा ॥ बूझब राउर सादर साईं। कुसल हेतु सो भयउ गोसाईं ॥

Chapter : 41 Number : 282

Doha / दोहा

दो. नाहि त कोसल नाथ कें साथ कुसल गइ नाथ। मिथिला अवध बिसेष तें जगु सब भयउ अनाथ ॥ २७० ॥

Chapter : 41 Number : 283

Chaupai / चोपाई

कोसलपति गति सुनि जनकौरा। भे सब लोक सोक बस बौरा ॥ जेहिं देखे तेहि समय बिदेहू। नामु सत्य अस लाग न केहू ॥

Chapter : 41 Number : 283

रानि कुचालि सुनत नरपालहि। सूझ न कछु जस मनि बिनु ब्यालहि ॥ भरत राज रघुबर बनबासू। भा मिथिलेसहि हृदयँ हराँसू ॥

Chapter : 41 Number : 283

नृप बूझे बुध सचिव समाजू। कहहु बिचारि उचित का आजू ॥ समुझि अवध असमंजस दोऊ। चलिअ कि रहिअ न कह कछु कोऊ ॥

Chapter : 41 Number : 283

नृपहि धीर धरि हृदयँ बिचारी। पठए अवध चतुर चर चारी ॥ बूझि भरत सति भाउ कुभाऊ। आएहु बेगि न होइ लखाऊ ॥

Chapter : 41 Number : 283

Doha / दोहा

दो. गए अवध चर भरत गति बूझि देखि करतूति। चले चित्रकूटहि भरतु चार चले तेरहूति ॥ २७१ ॥

Chapter : 41 Number : 284

Chaupai / चोपाई

दूतन्ह आइ भरत कइ करनी। जनक समाज जथामति बरनी ॥ सुनि गुर परिजन सचिव महीपति। भे सब सोच सनेहँ बिकल अति ॥

Chapter : 41 Number : 284

धरि धीरजु करि भरत बड़ाई। लिए सुभट साहनी बोलाई ॥ घर पुर देस राखि रखवारे। हय गय रथ बहु जान सँवारे ॥

Chapter : 41 Number : 284

दुघरी साधि चले ततकाला। किए बिश्रामु न मग महीपाला ॥ भोरहिं आजु नहाइ प्रयागा। चले जमुन उतरन सबु लागा ॥

Chapter : 41 Number : 284

खबरि लेन हम पठए नाथा। तिन्ह कहि अस महि नायउ माथा ॥ साथ किरात छ सातक दीन्हे। मुनिबर तुरत बिदा चर कीन्हे ॥

Chapter : 41 Number : 284

Doha / दोहा

दो. सुनत जनक आगवनु सबु हरषेउ अवध समाजु। रघुनंदनहि सकोचु बड़ सोच बिबस सुरराजु ॥ २७२ ॥

Chapter : 41 Number : 285

Chaupai / चोपाई

गरइ गलानि कुटिल कैकेई। काहि कहै केहि दूषनु देई ॥ अस मन आनि मुदित नर नारी। भयउ बहोरि रहब दिन चारी ॥

Chapter : 41 Number : 285

एहि प्रकार गत बासर सोऊ। प्रात नहान लाग सबु कोऊ ॥ करि मज्जनु पूजहिं नर नारी। गनप गौरि तिपुरारि तमारी ॥

Chapter : 41 Number : 285

रमा रमन पद बंदि बहोरी। बिनवहिं अंजुलि अंचल जोरी ॥ राजा रामु जानकी रानी। आनँद अवधि अवध रजधानी ॥

Chapter : 41 Number : 285

सुबस बसउ फिरि सहित समाजा। भरतहि रामु करहुँ जुबराजा ॥ एहि सुख सुधाँ सींची सब काहू। देव देहु जग जीवन लाहू ॥

Chapter : 41 Number : 285

Doha / दोहा

दो. गुर समाज भाइन्ह सहित राम राजु पुर होउ। अछत राम राजा अवध मरिअ माग सबु कोउ ॥ २७३ ॥

Chapter : 41 Number : 286

Chaupai / चोपाई

सुनि सनेहमय पुरजन बानी। निंदहिं जोग बिरति मुनि ग्यानी ॥ एहि बिधि नित्यकरम करि पुरजन। रामहि करहिं प्रनाम पुलकि तन ॥

Chapter : 41 Number : 286

ऊँच नीच मध्यम नर नारी। लहहिं दरसु निज निज अनुहारी ॥ सावधान सबही सनमानहिं। सकल सराहत कृपानिधानहिं ॥

Chapter : 41 Number : 286

लरिकाइहि ते रघुबर बानी। पालत नीति प्रीति पहिचानी ॥ सील सकोच सिंधु रघुराऊ। सुमुख सुलोचन सरल सुभाऊ ॥

Chapter : 41 Number : 286

कहत राम गुन गन अनुरागे। सब निज भाग सराहन लागे ॥ हम सम पुन्य पुंज जग थोरे। जिन्हहि रामु जानत करि मोरे ॥

Chapter : 41 Number : 286

Add to Playlist

Read Later

No Playlist Found

Mudra Cost :

Create a Verse Post


namo namaḥ!

भाषा चुने (Choose Language)

Gyaandweep Gyaandweep

namo namaḥ!

Sign Up to explore more than 35 Vedic Scriptures, one verse at a time.

Login to track your learning and teaching progress.


Sign In