Ram Charita Manas

Uttara Kanda

Aarti of Shri Ramayana.

ॐ श्री परमात्मने नमः


This overlay will guide you through the buttons:

संस्कृत्म
A English

ॐ श्री गणेशाय नमः

Aarti आरति

आरति श्रीरामायनजी की। कीरति कलित ललित सिय पी की ॥

Chapter : 22 Number : 137

गावत ब्रह्मादिक मुनि नारद। बालमीक बिग्यान बिसारद।सुक सनकादि सेष अरु सारद। बरनि पवनसुत कीरति नीकी ॥ १ ॥

Chapter : 22 Number : 137

गावत बेद पुरान अष्टदस। छओ सास्त्र सब ग्रंथन को रस।मुनि जन धन संतन को सरबस। सार अंस संमत सबही की ॥ २ ॥

Chapter : 22 Number : 137

गावत संतत संभु भवानी। अरु घटसंभव मुनि बिग्यानी।ब्यास आदि कबिबर्ज बखानी। कागभुसुंडि गरुड के ही की ॥ ३ ॥

Chapter : 22 Number : 137

कलिमल हरनि बिषय रस फीकी। सुभग सिंगार मुक्ति जुबती की।दलन रोग भव मूरि अमी की। तात मात सब बिधि तुलसी की ॥ ४ ॥

Chapter : 22 Number : 137

Add to Playlist

Read Later

No Playlist Found

Mudra Cost :

Create a Verse Post


namo namaḥ!

भाषा चुने (Choose Language)

Gyaandweep Gyaandweep

namo namaḥ!

Sign Up to explore more than 35 Vedic Scriptures, one verse at a time.

Login to track your learning and teaching progress.


Sign In